Home

कविता

कुछ पल के उथले चिंतन से कभी जनमती है कविता। वर्षों से मेरे अंतर्मन में कहीं पनपती है कविता ।। दो नयनों में बन अश्रु-बिंदु…
Continue Reading